राज्य सभा क्या है, राज्य सभा में कितनी सीटे है

राज्य सभा क्या है यह सवाल आपके मन में है और आप जानना चाहते हैं कि भारतीय राज्यसभा में कितनी सीट हैं तो फिर बने रहिए इस पोस्ट के साथ इस पोस्ट में हम राज्यसभा संबंधित सारी जानकारियां आपके साथ शेयर करने वाले है.

Rajya Sabha Kya Hai


हमने पिछली पोस्ट में आपको बताया है कि लोकसभा क्या है आज की इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले हैं कि राज्य सभा क्या है तो चलिए आपका हम ज्यादा समय नहीं लेते हैं और आपको बताते हैं कि भारतीय राज्य सभा क्या है.

राज्य सभा क्या है


भारतीय संसद की ऊपरी प्रतिनिधि सभा राज्यसभा है और निचली प्रतिनिधि सभा लोक सभा है राज्यसभा में सदस्य संख्या 245 है जिसमें से 233 सदस्यों का चुनाव होता है और 12 सदस्य महामहिम राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित होते हैं.

संघीय शासन में संघीय विधायिका का ऊपरी भाग संवैधानिक बाध्यता के चलते राज्य हितों की संघीय स्तर पर रक्षा करने वाला बनाया जाता है इसी सिद्धांत के चलते राज्य सभा का गठन हुआ है.


आपको यह भी पढ़ना चाइये





भारत देश में इसी कारण राज्य सभा को सदनों की समानता के रूप में देखा जाता है जिसका गठन ही संसद के द्वितीय सदन के रूप में हुआ है.

राज्यसभा सदस्य संख्या


राज्य सभा क्या है: भारतीय राज्य सभा में सदस्य संख्या 250 से अधिक नहीं हो सकती है इसीलिए राज्यसभा सदस्य संख्या 250 निर्धारित की गई है जिसमें से 238 सदस्य का चुनाव होता है और 12 सदस्य राष्ट्रपति द्वारा नामांकित किए जाते हैं.

मौजूदा समय में भारतीय राज्य सभा संख्या 245 है जिसमें से 233 सदस्यों का चुनाव होता है और 12 सदस्य राष्ट्रपति द्वारा नामांकित किए जाते हैं.

महामहिम राष्ट्रपति द्वारा नामनिर्देशित किए जाने वाले सदस्य ऐसे व्यक्ति हो सकते हैं जिन्हें साहित्य, विज्ञान, कला, खेल और समाज सेवा जैसे विषयों के संबंध में विशेष ज्ञान हो.

राज्यसभा में मौजूदा स्थिति में 233 सदस्य राज्यों का प्रतिनिधित्व करते हैं जो राज्यों के द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि होते हैं आपको हम भारत के सभी राज्यों के मुताबिक राज्यसभा सीट के बारे में जानकारी देते हैं.

राज्यसभा सीट राज्यों के मुताबिक इस प्रकार है

क्रम संख्याराज्यसीटों की संख्या
1अरुणाचल प्रदेश1
2असम7
3आंध्र प्रदेश11
4हिमाचल प्रदेश3
5हरियाणा5
6सिक्किम1
7दिल्ली3
8तमिलनाडु18
9त्रिपुरा1
10तेलंगाना7
11ओडिशा10
12उत्तर प्रदेश31
13उत्तराखंड3
14कर्नाटक12
15केरल9
16गुजरात11
17गोवा1
18छत्तीसगढ़5
19जम्मू-कश्मीर4
20झारखंड6
21नागालैंड1
22पंजाब7
23पुडुचेरी1
24पश्चिमी बंगाल16
25बिहार16
26मेघालय1
27मणिपुर1
28मध्य प्रदेश11
29महाराष्ट्र19
30मिज़ोरम1
31राजस्थान10
32 नाम निर्देशित12

टोटल 245 

 राज्यसभा सदस्य का चुनाव कैसे होता है


पिछली पोस्ट में हमने आपको लोकसभा चुनाव के बारे में जानकारी दी थी लोकसभा चुनाव में जनता अपना प्रतिनिधि चुन सकती है लेकिन राज्यसभा चुनाव में जनता सीधे अपना प्रतिनिधि नहीं चुन सकती है.

राज्यसभा सदस्य को चुनने के लिए जनता द्वारा चुने गए राज्य के विधायक अपना प्रतिनिधि चुनते हैं जैसे कि हमने आपको राज्यों के मुताबिक राज्यसभा सीट के बारे में जानकारी दी है उसी तर्ज पर विधायक अपना राज्यसभा सांसद चुनता है.

राज्यसभा सांसद बनने के लिए आयु कितनी होनी चाहिए


लोकसभा का सदस्य बनने के लिए आयु 25 वर्ष है लेकिन राज्यसभा के लिए 30 साल की आयु निर्धारित की गई है यानी कि राज्यसभा सदस्य 30 वर्ष की आयु के बाद ही बन सकता है.

राज्यसभा सदस्य का कार्यकाल कितना होता है


भारतीय लोकसभा में सदस्य का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है लेकिन राज्यसभा में इसकी समय मर्यादा 6 साल है राज्यसभा में किसी सदस्य को 6 साल से अधिक समय हो चुका है तो फिर से उसे चुनाव करके राज्यसभा में आना होता है.

राज्यसभा के लिए नामनिर्देशित सदस्य का चुनाव कैसे होता है


भारतीय उच्च सदन में महामहिम राष्ट्रपति 12 सदस्य को नामांकित कर सकते है इन सदस्यों का भी कार्यकाल 6 वर्ष का होता है और यह सभी महामहिम राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित किए गए होते हैं.

महामहिम राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित किए गए सदस्यों को किसी भी चुनाव का सामना नहीं करना पड़ता है और वह सीधे महामहिम राष्ट्रपति के द्वारा राज्यसभा सदस्य बन जाता है.

राज्यसभा सदन का संचालन कौन करता है


भारतीय संसद के उच्च सदन का संचालन पीठासीन अधिकारी करते हैं राज्यसभा में अधिकारियों पर विशेष जिम्मेदारी होती है सदन की कार्यवाही का संचालन करने की और इसके साथ राज्यसभा में सभापति के पद पर उपराष्ट्रपति बैठते हैं.

राज्यसभा सभापति का चुनाव सांसद करते हैं जो राज्यसभा का संचालन करते हैं सभापति के साथ उपसभापति भी राज्य सभा का संचालन करते हैं इनका भी चुनाव संसद सदस्य करते हैं.

राज्यसभा सभापति का कार्यकाल कितना होता है


आपको जैसा कि हमने बताया कि राज्यसभा सदस्य का कार्यकाल 6 वर्ष का होता है लेकिन इसके विपरीत राज्यसभा सभापति का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है.

राज्यसभा में क्या सभी सीटों का चुनाव एक साथ होता है


आपके मन में भी यह सवाल होगा कि क्या लोकसभा की तरह ही राज्यसभा की सभी सीटों का चुनाव एक साथ होता है तो इसका जवाब है नहीं राज्यसभा की सभी सीटों का चुनाव एक साथ नहीं होता है.

राज्यसभा की विशेष शक्तियां


भारतीय संसद के उच्च सदन को संविधान के आधीन कुछ विशेष शक्तियां प्राप्त हैं भारतीय राज्य सभा के पास विशेष शक्तियां हैं जिनकी जानकारी आपको नीचे दी गई है.

1. अनु. 249 के अंतर्गत राज्य सूची के विषय पर 1 वर्ष का बिल बनाने का हक
2. अनु. 312 के अंतर्गत नवीन अखिल भारतीय सेवा का गठन 2/3 बहुमत से करना
3. अनु. 67 ब उपराष्ट्रपति को हटाने वाला प्रस्ताव राज्यसभा में ही लाया जा सकेगा

आज की इस पोस्ट में हमने राज्य सभा क्या है इस सवाल का जवाब देने का प्रयास किया है आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो जरूर अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर कीजिएगा.

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां